सभी समाचार एवं घटनाक्रम पर वापस जाएं
समाचार

न्यूहाॅलैंड एग्रीकल्चर ट्रैक्टर्स को जे.डी. पावर 2017 इंडिया स्टडीज़ में ’ग्राहक सेवा’ और ’उत्पाद प्रदर्षन’ के लिए सर्वश्रेष्ठ रैंक

न्यूहाॅलैंड एग्रीकल्चर ने पंजाब और हरियाणा राज्यों के किसानों के लिए नया टेक्नोलाॅज़ी सेंटर खोला है जो सबसे उन्नत कृषि प्रौद्योगिकियों व कृषि उपकरणों को अपनाते हैं।

दुनिया के अग्रणी एग्रीकल्चर ब्राण्डों में से एक ने पंजाब के नाभा में ‘टेक्नोलाॅजी सेंटर’ का उद्घाटन किया। उद्घाटन समारोह में न्यू हाॅलैंड एग्रीकल्चर की मूल कंपनी सीएनएच इंडस्ट्रियल के वरिष्ठ अधिकारियों ने पंजाब कृषि विष्वविद्यालय (पीएयू), लुधियाना के साथ पंजाब और हरियाणा के प्रगतिषील किसानों का भी स्वागत किया।

इस नये सेंटर में उन उन्नत प्रौद्योगिकियों व कृषि उपकरणों को प्रदर्षित किया गया है जो न्यूहाॅलैंड पंजाब और हरियाणा सहित देष भर के किसानों के लिए उपलब्ध कराता है।

पंजाब राल्य के दक्षिण-पष्चिम में पटियाला जिले में स्थित नाभा शहर भारत में कम्बाइन हार्वेस्टरों के लिए मषहूर है। 5,000 वर्गफुट से अधिक में फ़ैले इस टेक्नोलाॅजी सेंटर में न्यूहौलैंड के अत्याधुनिक कृषि मषीनीकरण उपकरणों की विस्तृत श्रंखला प्रदर्षित की जाएगी। न्यूहाॅलैंड एग्रीकल्चर की टीम टेक्नोलाॅजी सेंटर में किसानों को ब्राण्ड के उत्पादों की तकनीकी जानकारी के साथ उनके लाभ भी बताएगी।

उद्घाटन समारोह का मुख्य आकर्षण न्यूहाॅलैंड के कम्बाईन हार्वेस्टर ‘हार्वेस्टार’ टीसी 5.30 का अनावरण था। टीसी 5.30 एक अत्याधुनिक मल्टी-क्राॅप कम्बाईन हार्वेस्टर है जिसमें ऐसे कई फीचर हैं जो इंडस्ट्री में पहली बार पेष किए गए हैं। इसमें सबसे शक्तिषाली व कम ईंधन खपत वाला 130 एचपी का 5.9 लीटर, 6 सिलिण्डर टर्बोचाज्र्ड टीयर 3 इंजन है, तथा डबल थ्रैषिंग और सेपरेषन सिस्टम, 15 फुट चैड़े कटर बार, और वैकल्पिक मेज़ हैडर से युक्त है जो इसे सही मायनों में मल्टी-क्राॅप हार्वेस्टर बनाते हैं और उच्च गुणवत्ता वाले परिणाम देते हैं। इसके अलावा टेक्नोलाॅजी सेंटर में जायरो रेक, स्क्वेयर बेलर, न्युमैटिक प्लांटर, मल्चर, एमबी प्लाऊ और अलग-अलग हाॅर्सपावर के ट्रैक्टर माॅडल प्रदर्षित किए गए हैं।

इस अवसर पर के ने कहा, ‘‘पंजाब व हरियाणा के किसान न्यूहाॅलैंड के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इन्हें आधुनिक तकनीकें पसंद हैं और खेती की नई तकनीकें अपनाने में सबसे आगे हैं। भारत में कम्बाइन हार्वेस्टर के गढ़ में किसानों के बीच यहां मौजूद होना इस बात का प्रमाण है कि न्यूहाॅलैंड ट्रेनिंग, उच्च तकनीकी व विकास में निरंतर कार्यरत है जिसका लाभ हमारे ग्राहकों व पर्यावरण को होगा। ‘टेक्नोलाॅज़ी सेंटर’ इस क्षेत्र के किसानों के लिए वरदान होगा क्योंकि ये आधुनिक तकनीक की हमारी प्रोडक्ट रेंज़ का अनुभव ले सकेंगे।’’

बड़ी संख्या में पंजाब और हरियाणा के किसानों ने ‘टेक्नोलाॅज़ी सेंटर’ में प्रदर्षित उत्पादों में दिलचस्पी दिखाई। उद्घाटन समारोह के अंत तक कई किसानों ने ट्रैक्टरों, बेलरों और कम्बाइन हार्वेस्टरोें के लिए तत्काल बुकिंग कर दी थी।

देष भर में 600 से अधिक इकाइयों के साथ, जिनमें से अधिकतर पंजाब में हैं, न्यूहाॅलैंड बीसी 5060 बेलर भारत में मार्केट लीडर हैं। रेक व श्रेडो मल्चर जैसे अन्य स्ट्राॅ प्रबंधन उत्पाद भी भविष्य में स्ट्राॅ प्रबंधन के समाधान व देष के किसानों के लिए आय के दूसरे स्त्रोत के रुप में अपनी पहचान बना रहे हैं।

न्यूहाॅलैंड एग्रीकल्चर के भारत में 3,00,000 से अधिक खुषहाल ग्राहक हैं जिनकी सहायता के लिए 1000 से अधिक ग्राहक संपर्क केंद्रों का विस्तृत नेटवर्क है। न्यू हाॅलैंड ने कृषि में स्थिरता और निरंतरता के लिए दुनिया को नई राह दिखाई है। खेत तैयार करने से लेकर, फसल काटने और फिर फसल के रखरखाव के लिए न्यू हाॅलैंड के पास बहुत कारगर उपकरण और साधन हैं। इतना ही नहीं, धान के पुआल और अन्य फसलों के अनुपयोगी हिस्सों को एकत्र करने के भी साधन हैं ताकि एकत्र बायोमास से बिजली पैदा की जा सके। चीनी मिल में गन्नों के बेकार बचे हिस्सों को इकट्ठा करने के भी साधन हैं।

न्यूहाॅलैंड एग्रीकल्चर का ग्रेटर नोएडा में 1996 से अत्याधुनिक ट्रैक्टर उत्पादन केंद्र है जो इसके अंतर्राष्ट्रीय संयंत्रों की तर्ज पर बना है। इसमें एक शोध एवं विकास केन्द्र तथा डीलरों व ग्राहकों के लिए एक प्रषिक्षण केन्द्र भी है। न्यूहाॅलैंड देष के किसानों की फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए सबसे उपयुक्त मषीनीकृत समाधान उपलब्ध कराने वाली पहली कम्पनी थी। भारत में ब्राण्ड न्यू हाॅलैंड की उन्नत तकनीक के 35 एचपी से 90 एचपी के ट्रैक्टर के साथ साथ हे और फाॅरेज, प्लांटर, बेलर, स्प्रेयर, टिलेज उपकरण व अपने वैष्विक पोर्टफोलियो से अन्य उत्पाद भी उपलब्ध हैं।

कम्पनी का किसान भाइयों की मदद के लिए खास तौर से एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर (1800.419.0124) है। हिन्दी और पंजाबी समेत यह 8 भाषाओं में काम करती है।



सभी समाचार एवं घटनाक्रम पर वापस जाएं
सोशल स्ट्रीम


न्यू हॉलैंड एग्रीकल्चर © 2018
शीर्ष पर वापस जाएँ